जलदाय विभाग कार्यालय पर जड़ा ताला,महिलाओं ने फोड़ी मटकियां

तहलका न्यूज,बीकानेर। बीकानेर जिले में नहरबंदी भले ही खत्म हो गई हो। लेकिन पानी की समस्या अभी भी बरकरार है। जिसके चलते नौतपा में पानी को लेकर उबाल के हालात बने हुए है। पिछले तीन दिनों से शहर के अलग अलग इलाकों में पेयजल आपूर्ति के लिये हाय तौबा मची हुई है। पर्याप्त पानी की आपूर्ति के लिये कांग्रेसी पार्षद भी जलदाय विभाग के अधिकारियों को कोसते हुए कभी टंकी पर चढ़कर तक कभी जलदाय कार्यालय पर ताला जड़कर विरोध जता रहे है। इसी कड़ी में आज चूनगरान,बह्मपुरी चौक,सोनगिरी कुंआ,डीडू सिपाहीयान,दुजारियों की गली क्षेत्र में पानी की पर्याप्त उपलब्धता नहीं होने से आक्रोशित लोगों ने वार्ड पार्षद प्रतिनिधि ताहिर हुसैन की अगुवाई में नत्थूसर गेट टंकी स्थित जलदाय कार्यालय के ताला जड़कर प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि जिला प्रशासन रोजाना पानी देने का दावा कर रहा है। लेकिन उनके मोहल्लों में प्रतिदिन पानी नहीं आ रहा है और आता है तो महज बीस मिनट तक। ऐसे में लोगों के घरों में पीने के लिये भी पानी की कमी हो रही है। प्रदर्शन की जानकारी मिलते ही नयाशहर थाने के एसआई चन्द्रजीत सिंह मौके पर पहुंचे और लोगों से समझाईश की। बाद में जलदाय विभाग के अधिकारियों से वार्ता कर एकबारगी टैंकर से वैकल्पिक पानी की व्यवस्था करवाने तथा मौका स्थल का जायजा लेकर पानी लाईन डलवाने की बात कही। जिसके बाद मामला शांत हुआ।
महिलाओं ने मटकियां फोड़ किया प्रदर्शन
नहरबंदी समाप्त होने के बाद भी पेयजल आपूर्ति व्यवस्था के हालात सुधरने का नाम नहीं ले रहे है। पेयजल आपूर्ति को लेकर शनिवार को महिलाओं ने पाणी दोज्, पाणी दोज्नारे लगाती हुई खाली मटकियां फोड़ विभाग के प्रति अपना आक्रोश निकाला।कहीं न कहीं लग रहा है कि विभाग ने नहरबंदी समाप्त होने से पहले पेयजल आपूर्ति व्यवस्था को चाक चौबंद नहीं किया। जलाशयों में पानी आने के बावजूद विभाग का फिल्टर खराब होने की वजह से लोगों को पेयजल संकट का सामना करना पड़ा। वहीं लीकेज व फूटी पाइप लाइन को समय पर दुरस्त नहीं करने की वजह से लोगों को पानी भरने के लिए रात-रात भर जागना पड़ा। इसके बावजूद पेयजल संकट समाप्त होने का नाम नहीं ले रहा है। इसको लेकर शनिवार को फड़बाजार, वाल्मीकि बस्ती से बड़ी संख्या में पहुंची महिलाओं, बच्चों व पुरुषों ने पुलिस लाइन स्थित सांखू डेरा विभाग की पेयजल स्कीम पर खाली मटकियां फोड़ न केवल अपनाा गुस्सा जाहिर किया, बल्कि गुस्साई महिलाएं पानी की टंकी पर चढ़ गई, हालांकि बाद में विभाग के कार्मिकों ने उनको नीचे उतार दिया। इस मौके पर लोगों ने पेयजल आपूर्ति में भेदभावपूर्ण रवैया अपनाने का आरोप भी विभाग पर लगाया है। पेयजल आपूर्ति नियमित व सुचारू नहीं होने की वजह से लोगों को पेयजल संकट का सामना करना पड़ रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.