कार–ट्रक भिड़ंत में बिजनेसमैन सहित 5 की दर्दनाक मौत

भीनमाल।जालोर में भीनमाल के मोरसीम गांव के रहने वाले जैन परिवार के 5 लोगों की सड़क हादसे में दर्दनाक मौत हो गई। मरने वालों में दो महिलाएं और एक बच्चा भी शामिल है। यह परिवार पालीताणा तीर्थ धाम से दर्शन कर रविवार रात अहमदाबाद लौट रहा था।इस दौरान अहमदाबाद-भावनगर हाईवे पर रात करीब 10:30 बजे अघेलाई चौराहे के पास ट्रक ने उनकी कार को टक्कर मार दी। इस भीषण हादसे में महावीर जैन (40) उनकी पत्नी रमिला जैन(31), बेटा जैनम (9), सास पुष्पा देवी (60) और साला नरेश जैन (32) ने मौके पर ही दम तोड़ दिया।

अहमदाबाद में मेटल का कारोबार, वहीं रहता था परिवार

महावीर जैन का अहमदाबाद में मेटल का कारोबार था। उनका वहीं विराट नगर स्थित केपी फ्लैट में रहता था। उसके साले का मुंबई में सोने-चांदी का कारोबार है।। हाल ही में महावीर और उसके साला का परिवार अपने गांव मोरसीम आए थे। महावीर जैन के माता-पिता उनके गांव में ही रहते हैं। वहीं,महावीर के दो बेटे और एक बेटी हैं। इसमें से एक बेटे जैनम की मौत हो गई और दूसरे बेटे और बेटी को वह अहमदाबाद में ही अपने भाई के घर छोड़कर दर्शन के लिए निकले थे। उन दोनों बच्चों का स्कूल चल रहा था, इसलिए वे नहीं आए।

6 बहनों का इकलौता भाई था नरेश

मृतक महावीर जैन का साला नरेश जैन 6 बहनों का इकलौता भाई था। उसकी शादी 2 साल पहले ही हुई थी। उसकी पत्नी प्रेग्नेंट होने के कारण डिलीवरी के लिए अपने पीहर इंदौर में है। सूचना मिलने के बाद उसकी पत्नी को फ्लाइट से रवाना किया गया है।महावीर के ससुराल पक्ष में मृतक पुष्पा देवी व उनका बेटा नरेश का परिवार मुंबई में रहता है। नरेश की पत्नी गर्भवती होने के कारण इंदौर पीहर गईं हुई थी। नवरात्रि के समय नरेश मृतक जैनम उसकी मां पुष्पा दोनों मोरसीम आ गए थे। यहां पर बेटी रमिला का परिवार भी मोरसीम में था। नवरात्रि में सभी ने -अर्चना की। उसके बाद बेटी के परिवार के साथ पुष्पा व नरेश भी अहमदाबाद चले गए थे। अहमदाबाद से सभी लोग पालीताना मंदिर में चल रहे उपध्यान पत के चलते इनके गुरु महाराज का आशीर्वाद लेने के लिए कहाँ जाने का कार्यक्रम तय हुआ एवं उसके बाद पुष्पा व नरेश मुंबई के लिए निकलने वाले थे। शनिवार को यह परिवार पालीताना जाकर रविवार देरशाम को वापस अहमदाबाद के लिए रवाना हुआ, लेकिन रास्ते में हादसा हो गया।

परीक्षा होने से घर रुके बेटा-बेटी दोनों बच गए

महावीर के बेटा आर्यन और बेटी हिमांशी परीक्षा होने की वजह से अहमदाबाद ही रुक गए। इसलिए उनकी जान बच गई। महावीर के 65 वर्षीय पिता रतनलाल व माता लूणी देवी मोरसीम में रहते हैं। एक अविवाहित भाई भी है। दोनों बच्चे अब दादा-दादी के भरोसे ही हैं।

कार पूरी तरह से पिचकी

हादसे में कार पूरी तरह से पिचक गई थी। मृतकों के शरीर से भारी रक्तपात हुआ है। घटना के बाद स्थानीय लोगों की भीड़ जमा हो गई थी। पुलिस ने घायलों को अस्पताल पहुंचाया, लेकिन वहां सभी को मृत घोषित कर दिया।

गांव में होगा अंतिम संस्कार

मोरसीम गांव से एक साथ एक ही परिवार के 5 लोगों की मौत के बाद गांव में शोक की लहर छा गई है। सभी का गांव में मंगलवार को अंतिम संस्कार किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.