फड़बाजार से हटाये गये ठेले वालों को भैसावाड़ा में चौकियां होगी आवंटित

तहलका न्यूज,बीकानेर। फड़ बाजार से हटाये गये फल-सब्जी के गाड़ो को अब चौखूंटी रोड स्थित भैसावाड़ा में बसाया जाएगा। शुक्रवार को फल-सब्जी मंडी के अध्यक्ष, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं शहर जिला कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष अरविंद मिढ़ा के नेतृत्व में पीडि़त पक्षों के साथ संभागीय आयुक्त नीरज के पवन से मुलाकात कर उन्हें फड बाजार से हटाए गए ठेले वालों को भैंसा वाड़ा के पास चौकी बनाकर स्थान उपलब्ध कराने का आग्रह किया। मिढ़ा के आग्रह पर नीरज के पवन ने प्रशासनिक अधिकारियों के साथ सुझाये गए स्थान का निरीक्षण किया, निरीक्षण के बाद उन्होंने उपयुक्त स्थान पाया और तुरंत निर्णय लिया गया कि प्राथमिकता के आधार पर हटाए गए ठेले वालों को चौखूटी रोड़ स्थित भैसावाड़ा में चौकियां बनाकर किराए पर चौकी दी जाएगी । संभागीय आयुक्त के इस निर्णय पर ठेले वालों ने सहमति जताई और प्रशासन का आभार प्रकट किया। अरविंद मिढ़ा ने प्रशासन का आभार प्रकट करते हुए कहा कि लम्बे समय से फड़ बाज़ार की समस्या से राहगीर और गरीब ठेले वाले परेशान होते थें, बरसों पहले की समस्या को संभागीय आयुक्त श्री नीरज के पवन की सक्रियता और इच्छा शक्ति से तुरंत राहत मिली है । इस अवसर पर अतिरिक्त सम्भागीय आयुक्त ए एच गौरी, निगम आयुक्त गोपालराम भी उपस्थित थे। प्रतिनिधिमंडल में अरविंद मिढ़ा के साथ रफीक मोहम्मद, एम डी चौहान, संजू मुगल,गुलाम कादरी, मुख्तार अली एवं अमीन रफीक सहित अनेक ठेले वाले साथ थे।
गाड़ों संचालकों पर ही कार्यवाही क्यों
बीकानेर। सावधान इंडिया संस्था के राष्ट्रीय अध्यक्ष ठाकुर दिनेश सिंह भदौरिया ने संभागीय आयुक्त को चेताया कि गरीबों, पर रहम करो, बड़े बड़े भूमाफियों की जमीनों, होटलों, भवनों, मकानों पर क्यों नहीं चल रहा है बुलडोजर, सुप्रीम कोर्ट के आदेशों से भी नहीं तोड़े जा सके अवैध कब्जे, बेरोजगारी बढ़ेगी, गंभीरता से विचार करें। टीम सावधान इण्डिया077के राष्ट्रीय अध्य्क्ष ठाकुर दिनेश सिंह भदौरिया ने एक ज्ञापन संभागीय आयुक्त को भेजकर आग्रह सहित चेतावनी दी कि पिछले15 दिनों से बीकानेर शहर मे चारों और बाजारों, प्रमुख मार्गों पर से अवैध कब्जों को हटाए जाने का कार्य बुलडोजर के दम पर चल रहा है, हम इस अभियान का समर्थन तो करते हैं, मगर ये अभियान पक्षपाथ पूर्ण से चलाया जा रहा है, चाहिए यह कि तमाम थड़ी, गाढ़ा, होटल, ढाबा, फूट पाथ पर बैढकर रोजाना 300से 500रुपये कमाकर कोई गरीब अपने बच्चों का पेट पाल रहा है क्या वही सबसे बड़ा कब्जाधारी नजर आ रहा है, अगर व्यस्था के सुधार के नाम पर उसे हटाना चाहते हैं तो पहले उनको वैकल्पिक स्थान उपलब्ध कराने की व्यस्था की जानी चाहिए, ना कि आनन फानन में उनकी रोजी रोटी को छीन लिया जावे ,उनके खोखे, गाड़े को तोड़ कर आर्थिक रूप से नुकसान भी पहुंचाया गया, ये न्याय संगत नहीं है, हमारी मांग है कि आज ही से एक बार इस अभियान को रोक कर शहर के सभी मार्गों, चौराहों, बाजारों में सड़कों व फूट पाथ आदि पर अपना गाड़ा, ठेला, आदि लगाकर रोजाना दो रोटी कड़ी मेहनत से कमाने वालों को जिला प्रशासन एकत्रित कर सभी की पीड़ा को सुने उनको विश्वाश मे लिया जावे उनको स्थाई तौर पर एक निश्चित स्थान उपलब्ध कराया जावे, ताकि हमेशा के लिए स्थाई समाधान भी हो सके साथ ही भदौरिया ने संभागीय आयुक्त महोदय से आग्रह किया कि जल्द ही स्ट्रीट वेंडर्स यूनियन आदि के चुनाव भी कराए जावें।
तथा भदौरिया ने आयुक्त महोदय को अवगत कराया कि वो शहर के मास्टर प्लान के अनुसार ज्ञात करें कि शहर के विभिन्न प्रमुख मार्गों ,चौराहों के आसपास नगर निगम, नगर विकास न्यास की अनदेखी या मिली भगत से बड़े बड़े कब्जाधारियों के द्वारा जमीनों पर कब्जे आदि करके मकान, दुकान, भवन, होटल आदि बना रखे हैं, उन स्थानों पर आपका बुलडोजर क्यों नहीं चलता है, कई स्थानों पर तो कोर्ट के आदेशों से कब्जे हटाने के कई बार आदेश भी हुए मगर जानबूझकर तकनीक कमियां छोड़ दी जाती है, और फिर कोर्ट से स्टे आदि मिलने का मौका जान बूझकर दिया जाता है भदौरिया ने आज संभागीय आयुक्त से आग्रह किया कि जल्द ही इस अभियान को रोका जाए वे गरीबों के हितों को ध्यान में रखते हुए भविष्य में कोई नीति निर्धारित की जावे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.