देश व प्रदेश के लिये मिशाल बनेगी बीकानेर की यह दीवार,देखे विडियो

तहलका न्यूज,बीकानेर। प्रदेश में बढ़ रही साम्प्रदायिक घटनाओं के बीच बीकानेर प्रशासन की ओर से शहर में सामाजिक सौहार्द कायम रखने के उद्देश्य से पब्लिक पार्क में रंगों के माध्यम से सर्वधर्म समभाव का संदेश दिया है। जहां बीकानेर के चित्रकारों ने अपनी कूंची से अनेक प्रकार के चित्र बनाकर राष्ट्रीय एकता व अखंडता की नजीर पेश की है। अनेकता में एकता के संदेश से सरोबार इस सद्भावना दीवार का लोकार्पण शनिवार को संभागीय आयुक्त नीरज के पवन,आईजी ओमप्रकाश ने किया। इस मौके पर जिला कलक्टर भगवती प्रसाद कलाल,एसपी योगेश यादव, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर अमित कुमार,अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण सुनील कुमार,सीओ सदर पवन भदौरिया,सीओ सिटी दीपचंद,सदर थानाधिकारी सत्यनारायण गोदारा,व्यास कॉलोनी थानाधिकारी महावीर प्रसाद सहित पुलिस के जवान मौजूद रहे। इस मौके पर प्रशासन व पुलिस के अधिकारियों ने कहा कि बीकानेर प्रशासन की यह अनूठी पहल देश के लिये मिशाल कायम होगी। राष्ट्रीयता के संदेश देने वाले इस चित्रों के माध्यम से देश व प्रदेश में आपसी भाईचारा बना रहे ऐसी पहल की गई है। ताकि बीकानेर की गंगा जमुनी संस्कृति कायम रहे। चित्रकार पेंटर धर्मा ने बताया कि 154 फीट इस दीवार पर शहर के चित्रकारों ने डेढ़ दिन में चित्रों को उकेरा है।

 

रविन्द्र रंगमंच में बही सद्भावना की रसधारा
सद्भावना दिवस पर बीकानेर पुलिस की ओर से रंविन्द्र रंगमंच में सांस्कृतिक संध्या का आयोजन किया गया। जिसमें देश के नामचीन गायक कलाकारों,नृत्य कलाकारों ने अपनी प्रस्तुति देकर सद्भावना कायम रखने का संदेश दिया। सद्भावना सम्मेलन में संतों और सेलिब्रिटीज ने एकजुट होक र भाइचारे का संदेश दिया। सामाजिक समरसता का संदेश देने के लिए एकजुट हुए संत समाज, खेल व अभिनय जगत की हस्तियों ने मन का मैल धोकर फिर से भाईचारा कायम करने की पुरजोर अपील की। सामाजिक समरसता मंच पर पर मौजूद वक्ताओं का एक ही मकसद था कि आज से सद्भावना का संकल्प लेना है और इसे कायम रखना है। संतों ने कहा कि हजार मुर्दों की जगह चार जिंदा लोग भी समाज को बदल सकते हैं। इसलिए समाज को बदलने वाले बनों और एक-दूसरे से भाईचारा बढ़ाओ। उन्होंने कहा कि सभी को मन से एकता कायम करनी है, क्योंकि मन पवित्र है तो करुणा, दया, भाईचारे को बल मिलता है। सद्भावना कायम रखने का संदेश देते कहा कि आज का दिन ऐतिहासिक कहा जाएगा, क्योंकि सभी का केवल एक ही मकसद है, वो है भाईचारा, समन्वय और सामाजिक समरसता कायम करना। इस मौके पर अली गनी,राजा हसन ने गीत-गजलों की प्रस्तुतियां देकर साम्प्रदायिक समभाव का संदेश दिया। कार्यक्रम में प्रशासन व पुलिस के आलाधिकारी मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.