नहीं होगा माध्यमिक शिक्षा बोर्ड का विखंडन-कल्ला

अजमेर। शिक्षा मंत्री डॉ. बी.डी. कल्ला ने कहा है कि राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड का अंशमात्र भी विखंड नहीं होगा। यहां से कोई भी स्टाफ कहीं नहीं भेजा जाएगा। पाठयक्रम और शिक्षा समन्वयन केंद्र बनाया जाना प्रस्तावित है। इसके लिए आधारभूत ढांचा तैयार किया जा रहा है। यह बात उन्होंने अजमेर मेें विशेष बातचीत में कही।
डॉ. कल्ला ने कहा कि माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के विखंडन जैसे प्रस्ताव को सिरे से खारिज करते हुए कहा कि अजमेर से राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की पहचान है। इसके महत्व को कमतर नहीं किया जाएगा। सरकार का बोर्ड के विखंडन का कोई इरादा या प्रस्ताव नहीं है।
केवल समन्वयन केंद्र
संभागीय मुख्यालयों पर बोर्ड कार्यालय खोलने की बातों को निराधार बताते हुए कहा कि कल्ला नेे कहा कि पाठ्यक्रम और शैक्षिक समन्वयन के लिए केंद्र बनाए जाने प्रस्तावित हैं। ना बोर्ड का कोई स्टाफ यहां से जाएगा ना कोई इसकी आवश्यकता है।
परीक्षाएं कोविड परिस्थिति पर निर्भर
बोर्ड की दसवीं-बारहवीं की परीक्षाओं के आयोजन से जुड़े सवाल पर डॉ. कल्ला ने कहा कि राज्य के 25 जिलों में कोरोना की तीसरी लहर के चलते प्रायोगिक परीक्षाएं स्थगित की गई हैं। परिस्थितियां अनुकूल हुई तों इन्हें फरवरी या इसके बाद कराया जाएगा। दसवीं-बारहवीं की परीक्षाएं मार्च में प्रस्तावित हैं। राज्य में कोरोना फैलाव और परिस्थिति के अनुसार परीक्षाएं कराने पर अंतिम निर्णय लिया जाएगा।
ऑनलाइन शिक्षा को देंगे बढ़ावा
डॉ.कल्ला नेे कहा कि कोरोना संक्रमण में ऑनलाइन-डिजिटल शिक्षा अहम हो गई है। 5 हजार स्कूल में ऑनलाइन शिक्षण शुरू हो चुकी है। 7500 स्कूल में डिजिटल शिक्षा के लिए कामकाज जारी है। सरकार आगामी दो साल में सीनियर सेकंडरी स्तर के सभी स्कूल में ऑफलाइन के साथ ऑनलाइन शिक्षण संसाधन उपलब्ध करा देगी।
तबादला नीति तैयार
डॉ. कल्ला ने कहा कि राज्य में शिक्षकों के तबादलों के लिए नई नीति तैयार की गई है। इसके अनुसार ही तबादले किए जाएंगे। राज्य में रीट के माध्यम से 32 हजार शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। सीएम गहलोत ने 20 हजार शिक्षकों की भर्ती रीट के माध्यम से कराने का ऐलान किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.