भुजिया का स्वाद हो सकता है तीखा,जाने वजह

तहलका न्यूज,बीकानेर। आने वाले दिनों में भुजिया के शौकिनों के लिये भुजिया-नमकीन का स्वाद तीखा होने की संभावना है। संभाग मुख्यालय पर बीकानेर पापड़ भुजिया मैन्यूफैक्चर्स एसोसिएशन व बीकानेरी भुजिया नमकीन श्रमिक संघ के मध्य प्रति दो वर्ष बढऩे वाले भाव पर चर्चा की गयी। एसोसिएशन के अध्यक्ष वेदप्रकाश अग्रवाल ने बताया कि सौहाद्र्रपूर्ण वातावरण में भुजिया कारीगरों की मजदूरी बढ़ाने के साथ-साथ भाव भी तय कर दिए गए। उन्होंने बताया कि भुजिया कारीगरों की मांगों के निराकरण के लिए समय-समय पर वार्ताएं की जाती रही है। आज भी एसोसिएशन कार्यालय में दोनों पक्षों के बीच समझौता हुआ और सहमति से भुजिया कारीगर की मजदूरी बढ़ाकर प्रति 12 किलो इकाई के रुपए 167 निर्धारित किए गए जो 1 अप्रैल 2022 से देय होगा। यानि 9 रुपए 65 पैसे बढऩा बताया लेकिन व्यापारियों एवं कारीगरों के अपने पारिवारिक रिश्ते को देखते हुए दोनों की सहमति से 167 रुपए प्रति टंकी 12 किलो बेसन के भाव तय कर दिए गए हैं। यह दरें 31 मार्च 2024 तक लागू रहेगी। लेकिन एरियर की देयता केवल स्थायी रुप से कार्यरत भुजिया ठेका श्रमिकों को ही दी जाएगी जो अस्थायी रुप से भुजिया निर्माण कर अपनी मजदूरी प्रचलित दरों से ले चुके हैं उनको एरियर देय नहीं होगा। एसोसिएशन व संघ द्वारा इस बीच किसी प्रकार की द्वेषपूर्ण कार्यवाही नहीं की जाएगी तथा पूर्ण सौहार्द्र से कार्य किया जाएगा एवं करवाया जाएगा। जिन श्रमिकों को वेतन वृद्धि के विवाद में निकाला गया है उन्हेें वापिस काम पर रखा जाएगा। दोनो पक्ष सहमति है। अग्रवाल ने यह भी बताया कि जिन कारीगरों ने अभी तक अपना पैसा नहीं लिया है उसका भुगतान नए भावों से व्यापारी करेंगे लेकिन जो कारीगर अपना पैसा ले गए हैं उनका एरियर देय नहीं होगा इस पर कारीगर एवं व्यापारी दोनों सहमत थे। श्रमिक संघ की ओर से मीटिंग में विजय सिंह, कनीराम, सीताराम, अजीत सिंह, गिरधारी महाराज, पप्पू जी सेवा या राम जी आदि उपस्थित रहे वहीं एसोसिएशन की ओर से अध्यक्ष वेदप्रकाश अग्रवाल के अलावा वीरेंद्र भंसाली, उपाध्यक्ष रोहित कच्छावा मौजूद थे।


Leave a Reply

Your email address will not be published.