पीबीएम के विकास की कड़ी में भामाशाहों का योगदान अविष्मरणीय

तहलका न्यूज,बीकानेर। पीबीएम अस्पताल के विकास में योगदान देने वाले भामाशाहों को गुरुवार को आचार्य तुलसी कैंसर रिसर्च सेंटर के सभागार में आयोजित समारोह के दौरान सम्मानित किया गया।
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिला कलक्टर भगवती प्रसाद कलाल थे। उन्होंने कहा कि पीबीएम अस्पताल की ओपीडी में प्रतिवर्ष लगभग 15 लाख तथा आईपीडी में लगभग 1 लाख 80 हजार मरीजों का इलाज किया जाता है। राज्य सरकार द्वारा यहां सभी आवश्यक सुविधाएं मुहैया करवाई गई हैं। उन्होंने कहा कि अनेक भामाशाहों ने पीबीएम अस्पताल की विकास यात्रा में सराहनीय भागीदारी निभाई है। इन भामाशाहों ने नर सेवा को सर्वोच्च प्राथमिकता दी है। आगे भी यही जज्बा बना रहे तथा सहयोग देने वाले भामाशाहों को किसी प्रकार की समस्या नहीं हो, इसके लिए प्रशासन की ओर से समन्वय अधिकारी नियुक्त किया जाएगा।
प्रत्येक वार्ड की आवश्यकताओं का करवाया आकलन
जिला कलक्टर ने कहा कि पीबीएम अस्पताल सभी आधारभूत सुविधाओं से लैस हो, इसके मद्देनजर एमबीए डिग्रीधारी युवाओं के माध्यम प्रत्येक वार्ड की आवश्यकताओं का आकलन करवाते हुए इसका ब्लू प्रिंट तैयार करवाया गया है। इनमें दीवारों का रंग-रोगन, मरीजों के परिजनों के लिए सुविधा सम्पन्न प्रतीक्षा कक्ष, साफ-सुथरे शौचालय, पंखे, कूलर, पेयजल, आकर्षक प्रवेश द्वार, विकसित उद्यान, डॉक्टरों एवं नर्सिंग कर्मियों की ड्यूटी की जानकारी देते एलइडी स्क्रीन, प्रमुख वार्डों एवं स्थानों के लिए एक जैसे साइनेज बोर्ड, पार्किंग पाइंट, कैंटीन सहित प्रत्येक सुविधा को शामिल किया गया है, जिससे यहां आने वाले मरीजों एवं उनके परिजनों को बेवजह परेशानी नहीं हो। जिला कलक्टर ने आह्वान किया कि प्रत्येक वार्ड में इन व्यवस्थाओं को बनाने में भामाशाह एवं उद्योगपति आगे आएं।
अतिरिक्त संभागीय आयुक्त एएच गौरी ने कहा कि पीबीएम अस्पताल के विकास के लिए जब कभी आवश्यकता महसूस हुई, यहां के भामाशाहों ने सदैव आगे बढ़कर सहयोग किया। कोविड काल में भामाशाहों द्वारा दिए गए योगदान को हमेशा याद रखा जाएगा।बीकानेर उद्योग संघ के अध्यक्ष द्वारका प्रसाद पचीसिया ने कहा कि जिला कलक्टर की पहल पर पहली बार सभी भामाशाहों को एक मंच पर लाने का प्रयास किया गया है। उन्होंने कहा कि बीकानेर के जाए जन्म अनेक भामाशाह अपनी जन्मभूमि के विकास के लिए योगदान देने को तत्पर हैं।पीबीएम अस्पताल अधीक्षक डॉ. पी. के. सैनी ने कहा कि पीबीएम के विकास में भामााशाहों का योगदान यहां की परम्परा का अंग रहा है।
हीरालाल चुन्नीलाल सोमानी चेरिटेबल ट्रस्ट के एस.के. बेरी ने कहा कि जनसहभागिता योजना के तहत बीकानेर में उल्लेखनीय कार्य हुए।
रीको के वरिष्ठ क्षेत्रीय प्रबंधक प्रवीण कुमार गुप्ता ने स्वागत उद्बोधन दिया। उद्योग एवं वाणिज्य विभाग के सहायक निदेशक सुरेन्द्र कुमार ने आगंतुकों का आभार जताया। कार्यक्रम का संचालन संजय पुरोहित ने किया।
इस दौरान अतिरिक्त जिला कलक्टर (नगर) पंकज कुमार शर्मा, जिला अग्रणी बैंक प्रबंधक एमएमएल पुरोहित सहित उद्योगपति, पीबीएम अस्पताल के कार्मिक, मौजूद रहे।
इनका हुआ सम्मान
कार्यक्रम के दौरान आचार्य तुलसी शांति प्रतिष्ठान के जेठमल बोथरा, शिव किशन मिंडाराम दम्माणी मेडिकेयर ट्रस्ट के श्रीराम सिंघी, हीरालाल चुन्नीलाल सोमानी चेरिटेबल ट्रस्ट के एसके बेरी, दुग्गड़ चेरिटेबल ट्रस्ट के कौशल दुग्गड़, लोटस डेयरी के अविनाश मोदी, सीएम चेरिटेबल ट्रस्ट के डी.पी. पचीसिया, श्री मूलचंद डागा ट्रस्ट अविंत डागा, बालचंद राठी मेमोरियल ट्रस्ट के जुगल राठी, मारवाड़ जन सेवा समिति के रमेश व्यास, द मदर्स केयर्स ट्रस्ट के विष्णु कुमार, मानव सेवा समिति के जगदीश राठी, बीकाजी ग्रुप के शंभू अग्रवाल, खत्री मोदी समाज के दिनेश मोदी और रोग निदान सेवा ट्रस्ट के शिवपाल सिंह का सम्मन किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.