शहर में बनी सड़कों का हो पोस्टमार्टम,घालमेल की आशंका,क्या कहती है तश्वीरें

तहलका न्यूज,बीकानेर। पुष्करणा सावे के नाम पर शहर में बनाई गई सड़कों की गुणवत्ता को लेकर अब सवाल उठने लगे है। इसको लेकर सार्वजनिक निर्माण विभाग के अभियंताओं पर भ्रष्टाचार करने के आरोप भी लगाएं है। जिसकी जांच के लिये गुरूवार को एक शिष्टमंडल ने सानिवि के मुख्य अभियंता से मुलाकात कर गुणवत्ता की जांच एक कमेटी से करवाने की मांग रखी। हालांकि मुख्य अभियंता ने इसके लिये अधीक्षण अभियन्ता बसन्त आचार्य को अधिकृत कर कमेटी का गठन किया है। भारतीय जनता पार्टी के पूर्व पदाधिकारीयों ने पूर्व महामंत्री पाबूदान सिंह एवं बाबूलाल गहलोत के नेतृत्व में मुख्य अभियन्ता सार्वजनिक निर्माण विभाग बीकानेर नगर खण्ड को गत 3-4 महीनों में पी.डब्ल्यू.डी. विभाग के नगर खंड द्वारा बीकानेर शहर की कुछ सडकों पर नवीनीकरण (डामर कारपेट ) के कार्य में घालमेल की आशंका जताई है।
इन सड़कों में घालमेल की आशंका
1. बी के स्कूल से धर्मनगर गेट ।
2. विश्वकर्मा गेट से माहेश्वरी भवन होते हुए माहेश्वरी भवन के पास की गली ।
3. आचार्य चौक से रॉयल मिष्ठान भंडार- पोस्ट ऑफिस तक ।
4. आचार्य चौक से मोहता चैक ।
5. लक्ष्मीनाथ मंदिर से शिव पार्वती भवन गोपेश्वर बस्ती होते हुए कुम्हारों की मोड़,गंगाशहर तक ।
6. नत्थूसर गेट के बाहर से गन्दी घाटी होते हुए दशनाम गोस्वामी भवन तक ।
7. दाऊजी मंदिर ( करणीदान मिठाई की दुकान से ) कोटगेट रेलवे क्रासिंग तक ।
8. रत्ताणी व्यासों के चैक से साले की होली चैक तक ।
निर्धारित मापदंड़ों के अनुरूप नहीं बनी सड़कें
शिष्टमंडल का आरोप है कि शहर की आठ सड़कों पर जो डामर कारपेट का कार्य किया गया है,उसमे कार्य निर्धारित मापदंडों के अनुरूप नहीं किया गया है और विभाग के अधिकारी जैसे कि अधिशाषी अभियंता आदि द्वारा सम्बंधित ठेकेदार के साथ मिलीभगत से राजकीय कोष को नुकसान पहुँचाया है व अपने निजी हित के लिए निम्न स्तर की गुणवत्ता की सड़कें बनवायी गयी हैं। शिष्ठमंडल ने मांग की है कि एक कमेट गठित करके उक्त सड़कों की गुणवता की जांच की जाये।
क्या कहते है नेतागण
अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश प्रदाधिकारी फारूख पठान ने कहा कि शहर मे जो सड़के बनी है जो एकदम ही निम्न स्तर की है और अधिशाषी अभियन्ता पूर्णतया ठेकेदार के साथ मिला है।
पूर्व उपाध्यक्ष किशन चैधरी एवं भाजपा पूर्व मण्डल अध्यक्ष जे.पी व्यास ने कहा कि इसकी विडियोंग्राफी फोटो स्पष्ट करती है कि अधिशाषी अभियन्ता पूर्णतय भ्रष्टाचार मे लिप्त है।
आई.टी.सेल के प्रदेश महामंत्री और केशरी वाहिनी के रूपसिंह ने कहा कि नत्थुसर गेट के बाहर से गन्दी घाटी होते हुए दशनाम गोस्वामी तक जो सड़क बनी है वो पहले से ही सिमेन्ट सडक थी उसके उपर ही बिना डाम्बर के स्प्रे किये सड़क बना दी गई है। शिष्ठ मण्डल में मिलने वालों में ओम रामावत, पुखराज सोनी,देवेन्द्र टाक,दिनेश चौहान,जसनाथ,शिवशंकर सोनी,रमेश सैनी,राजा सेवग आदि व्यक्ति शामिल थे।
अपने काम की जांच अपने ही अधिकारी से
मजे की बात तो यह है कि जिस काम को सानिवि विभाग ने करवाया। उसी काम की जांच उसी विभाग के अधीक्षण अभियंता द्वारा करवाना भी संदेह के घेरे में आता है। इससे निष्पक्ष जांच की उम्मीद किया जाने पर सवाल खड़े हो रहे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.