एक शाम राष्ट्र के नाम में गूंजे देशभक्ति स्वर

हजारों ने दिया बलिदान, तब मिली आजाद सांसें : डीआईजी पुष्पेन्द्र सिंह
तहलका न्यूज,बीकानेर। तेरी मिट्टी में मिल जावां…. बस इतनी सी है आरजू, जहां डाल डाल पर सोने की चिडिय़ा करती है बसेरा…., संदेशे आते हैं हमें तड़पाते हैं… गीतों की सुर लहरियों के साथ गंगाशहर के इंदिरा चौक में एक शाम राष्ट्र के नाम कार्यक्रम आयोजित हुआ। भाजपा लघु उद्योग प्रकोष्ठ के प्रदेश सहसंयोजक महावीर रांका ने बताया कि रामलाल सूरज देवी रांका चैरिटेबल ट्रस्ट, मस्त मंडल सेवा संस्था, लूणकरण सरोज देवी सामसुखा चैरिटेबल ट्रस्ट व बाबा रामदेव सेवा समिति ट्रस्ट के तत्वावधान में आयोजित एक शाम राष्ट्र के नाम कार्यक्रम में उत्साह के साथ दर्शकों का हुजुम उमड़ा। स्वराग बैंड, मुम्बई से प्रमोद त्रिपाठी व बीएसएफ के जवानों ने देशभक्ति गीतों की प्रस्तुति से माहौल को सराबोर कर दिया। गायक पिंटू स्वामी ने गीत गाकर कार्यक्रम की शुरुआत की। परी सामसुखा ने कविता की प्रस्तुति दी।कार्यक्रम में अतिथि संभागीय आयुक्त डॉ. नीरज के.पवन ने कहा कि बीकानेर की धरती वीरों की है, यहां सुर, संस्कार व संस्कृति भी अनूठी है। बीएसएफ डीआईजी पुष्पेन्द्र सिंह ने कहा कि हजारों ने बलिदान दिया तब हम देशवासियों को आजादी की हवा नसीब हुई। देश के लिए जीएं और देश के लिए ही मरें यही भावना हर देशवासी में होनी चाहिए। सीओ सिटी पवन भदौरिया ने भी उद्बोधन दिया। कॉमनवैल्थ गेम में बीकानेर का प्रतिनिधित्व करने वाले देवेन्द्र गहलोत, बीकाणा ब्लड सेवा समिति, ऑवर फॉर नेशन व साफा स्पेशलिस्ट पवन व्यास का अभिनंदन किया गया।अतिथियों का स्वागत मस्त मंडल संरक्षक सरोज देवी सामसुखा, मूलचंद सामसुखा, विजय मालू, हनुमानमल रांका, जयकुमार सामसुखा, अरिहंत नाहटा, पूनमचंद चौरडिय़ा, देवेन्द्र बैद, किशोर भंसाली, सौरभ मालू, श्याम भाटी, पंकज नाहटा, अशोक पंचारिया, किशोर भंसाली, शिखर सिपानी, राजेश बोथरा ने किया।

गंगाशहर में बुधवार को लगेगा बाबा रामदेव का जागरण
बीकानेर। मस्त मंडल सेवा संस्था द्वारा बाबा रामदेव की 50वीं स्वर्णिम फेरी के साथ ही 24 अगस्त बुधवार को इंदिरा चौक में बाबा रामदेव का विशाल जागरण आयोजित किया जा रहा है। संस्था के संरक्षक महावीर रांका ने बताया कि रात्रि नौ बजे जानेमाने गायक प्रकाश माली व आशा वैष्णव भजनों की प्रस्तुति देंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.