पूरे शहर में गूंज उठा नंद के आनंद भयो जय कन्हैया लाल की……,देखे विडियो

तहलका न्यूज,बीकानेर। शहर में श्री कृष्ण जन्माष्टमी धूमधाम से मनाई गई। मंदिरों में सुबह से ही श्रद्धालुओं का ताता लगना शुरू हो गया था, जो कि भगवान श्री कृष्ण के देर रात जन्म तक चला। मंदिरों के अलावा घर-घर कृष्ण के बाल स्वरूप लड्डू गोपाल का अभिषेक-पूजन कर आरती की गई। जन्माष्टमी को लेकर मंदिरों को रंग बिरंगी रोशनियों से सजाए गए है। शुक्रवार को रात 12 बजे कृष्ण जन्मोत्सव मनाया गया। कान्हा के विभिन्न पकवानों का भोग अर्पित किया गया। प्रतीक रूप में कंस का वध हुआ। जन्मोत्सव के समय नंद के आनंद भयो जय कन्हैया लाल की… के जयकारों से शहर गूंज उठा। आरती कर विभिन्न प्रकार के भोग लगाया गया। श्रद्धालओं ने भगवान कृष्ण का पूजन कर व्रत का पारना किया। उधर अनेक घरों में ऊं नमो भगवते वासुदेवाय के मंत्र का जाप किया गया। लड्डु गोपाल के पंचामृत अभिषेक के साथ उन्हें श्रृंगारित कर भोग लगाया गया है। साथ ही भजन कीर्तन के दौर भी दिनभर चले। श्री कृष्ण की झांकियां सजाने के साथ लड्डू गोपाल को पालने में झुलाया गया। उधर घरों में कृष्ण जन्मोत्सव को लेकर झांकियां सजाई गई। प्रभू को छप्पन भोग के प्रसाद भी चढाएं गये। जगह जगह सजी झांकियों को देखने के लिये भीड़ उमड़ी। दो साल बाद मनाये गये कृष्ण जन्मोत्सव के बाद पटाखें भी छोड़े गये। भाजपा लघु उद्योग प्रकोष्ठ के प्रदेश सहसंयोजक महावीर रांका के कार्यालय में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी धूमधाम से मनाई गई। प्रदेश सहसंयोजक महावीर रांका ने कान्हा का पंचामृत से अभिषेक किया तथा रात्रि बारह बजे थालियां बजाकर श्रीकृष्ण जन्म की बधाइयां दी गई। इस दौरान खिलौनों, गुब्बारों आदि श्रीकृष्ण की झांकी सजाई गई। इस दौरान श्रीकृष्णनाम संकीर्तन भी किया गया। इस दौरान समाजसेवी गणेश बोथरा, आदर्श शर्मा, शंकर सिंह राजपुरोहित, ओम राजपुरोहित, नेमीचंद भादाणी, संजय स्वामी, जय उपाध्याय, नरेन्द्र सिंह, जेठूसिंह आदि ने संकीर्तन किया। उधर बीकानेर व्यापार उद्योग मंडल के अध्यक्ष जुगल राठी के निवास पर भी जन्माष्टमी की झांकी सजाई गई। जिसे देखने के लिये खासी भीड़ उमड़ी। इस मौके पर जिला उद्योग केन्द्र की महाप्रबंधक मंजू नैण गोदारा,व्यवसायी रामरतन धारणिया सहित बड़ी संख्या में व्यापारी,जनप्रतिनिधि,अधिकारी पहुंचे।
बड़ा गोपालजी मंदिर में पंचामृत अभिषेक
शाम साढ़े सात बजे दम्माणी चौक स्थित बड़ा गोपालजी मंदिर में आरती संपन्न होने के साथ ही माहौल कृष्ण मय हो गया। वहीं मोहता चौक से आगे मरुनायक मंदिर में दर्शनार्थियों की भीड़ को देखते हुए पुलिस को व्यवस्था संभालनी पड़ रही है। शहर के सभी कृष्ण मंदिरों की विशेष सजावट शाम होते ही नजर आने लगी है। वहीं झांकियों के दर्शन करने के लिए महिलाएं और बच्चे पहुंचने शुरू हो गए हैं।बड़ा गोपाल मंदिर में आरती शुरू होने के साथ महिलाएं और पुरुषों के साथ बच्चे भी पहुंचे। बड़ी संख्या में कृष्ण स्वरूप बने नन्हें मुन्ने बच्चे भी मंदिर आए। बड़ा गोपाल मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष नारायण व्यास ने बताया कि पिछले तीन सौ साल से इस मंदिर में जन्माष्टमी पर विशेष पूजा हो रही है। नियमित रूप से यहां बिराजे बड़ा गोपालजी के मंदिर का स्वरूप पिछले कुछ सालों में बदल गया है। हवेलीनुमा इस मंदिर में वैष्णव संप्रदाय की रीति नीति के मुताबिक पूजा अर्चना हो रही है। मंदिर से जुड़े गणेश व्यास “बांके बिहारी” ने बताया कि शनिवार सुबह साढ़े आठ बजे झांकी निकाली जाएगी। एक नन्हें बच्चे को नन्दलाला का स्वरूप दिया जाएगा। उसका विशेष पूजन होगा और इसके बाद वो शहर के विभिन्न मोहल्लों में होता हुआ वापस मंदिर आएगा। इस दौरान भगवान कृष्ण की तरह वैष्णव संप्रदाय के लोग उसके दर्शन के लिए कतारबद्ध खड़े रहेंगे।
झांकियों में विशेष सजावट
कई मोहल्लों में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर विशेष सजावट की गई है। चौक व मोहल्लों में लोगों ने अपने स्तर पर झांकी सजाई है। सबसे खास झांकी रांगड़ी चौक में है, जहां भगवान जगन्नाथ का रथ बनाया गया है। श्रीकृष्ण के महाभारत के कुछ दृश्यों को भी झांकी में उकेरा गया है।
कृष्ण मंदिरों में भीड़
मरुनायक चौक मंदिर के अलावा जस्सूसर गेट स्थित मुरली मनोहर मंदिर में भी भारी भीड़ नजर आ रही है। बड़ी संख्या में लोग यहां भी पहुंच गए हैं।
बाल कलाकारों का सम्मान
वहीं बंगलानगर में योगेन्द्र पुरोहित की ओर से बाल कलाकारों का सम्मान किया गया। अतिथि मनीष कुमार जोशी ने दस बाल कलाकारों दीपक सुथार,माहित सुथार,रणवीर सुथार,प्रमोद सुथार,गौरव सुथार,भावेश सुथार,सवाई सुथार,महादेव हर्ष व दिशा पुरोहित को झांकी सजाने की प्रतियोगिता के तहत पुरूस्कृत किया गया। बालू रेत से इन बाल कलाकारों द्वारा 12 महादेव,दुबई की भुर्ज खलीफा इमारत,ज्वालामुखी,वाटरपुल,रेलवे यार्ड आदि झांकी सजाई। जिनकी दर्शनार्थियों ने खूब सराहना की।

Leave a Reply

Your email address will not be published.