मौसम विभाग ने जारी किया ये अलर्ट: पढ़िए पूरी खबर

जयपुर. श्रावण मास के आखिरी दिनों में एक बार फिर आज से मानसून के मेघ बरसेंगे। इससे पहले राजस्थान में जुलाई के महीने में 66 वर्ष बाद सर्वाधिक बारिश रेकॉर्ड की जा चुकी है। बुधवार को पूर्वी राजस्थान के जयपुर, अजमेर, अलवर, भरतपुर, भीलवाड़ा, बूंदी, चित्तौडग़ढ़, दौसा, धौलपुर, झुंझुनू, करौली, कोटा, सवाई माधोपुर, सीकर और पश्चिमी राजस्थान के चूरू, हनुमानगढ़ और नागौर सहित आसपास के क्षेत्रों में बारिश होने की संभावना है। गुरुवार को प्रदेश के 15 जिलों में भारी बारिश होने की संभावना है।

जयपुर में बरसे मेघ
राजधानी जयपुर समेत टोंक, निवाई, दौसा सहित आसपास की जगहों पर बीती रात से ही रूक-रूक कर बारिश का सिलसिला जारी रहा। जेएलएन मार्ग, मालवीयनगर, जगतपुरा, टोंक रोड, सांगानेर में तेज बारिश से जगह-जगह जलभराव होने से आमजन को परेशानी का सामना करना पड़ा। मालवीयनगर अंडरपास, जगतपुरा पुलिया सहित अन्य जगहों पर जलभराव से यातायात भी डायवर्ट किया गया।
बारिश नहीं होने से बढ़ी उमस
बीते 72 घंटों में राजस्थान में बारिश का दौर धीमा पडऩे के साथ ही उमस फिर से बढऩे लगी है। धूप निकलने से पश्चिमी राजस्थान के रेगिस्तानी जगहों दिन का अधिकतम तापमान 35 डिग्री सेल्सियस से ऊपर चला गया है। जैसलमेर, फलोदी, बीकानेर, चूरू, धौलपुर में दिन का अधिकतम तापमान 35 डिग्री सेल्सियस से ऊपर दर्ज हुए। हालांकि जयपुर में मंगलवार शाम को जेएलएन मार्ग सहित अन्य जगहों पर हल्की बूंदाबांदी हुई।
गुरुवार को यहां तेज बारिश होने के आसार
जयपुर मौसम केंद्र के मुताबिक गुरुवार को अजमेर, अलवर, भरतपुर, भीलवाड़ा, बूंदी, चित्तौडगढ़, दौसा, धौलपुर, डूंगरपुर, कोटा, राजसमंद, सवाई माधोपुर, सिरोही, टोंक और उदयपुर के कुछ इलाकों में भारी बारिश हो सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.