क्या सीएम अशोक गहलोत दे रहे है इस्तीफे ! ,पढ़े पूरी खबर

तहलका न्यूज़,बीकानेर। ,राजस्थान में पिछले कुछ दिनों से हो रही मुख्यमंत्री बदलने की अटकलों के बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपनी खामोशी तोड़ी है. अशोक गहलोत ने इसे कोरी अफ़वाह करार दे दिया. जयपुर में एक कार्यक्रम में मीडिया से बातचीत करते हुए गहलोत ने कहा कि ‘मैं पिछले दो-तीन दिन से लगातार मैं इस तरह की अफवाहें सुन रहा हूं..अफवाहों पर ना जाया करें क्योंकि इससे गवर्नेन्स पर फ़र्क पड़ता है.’ गहलोत ने कहा. “मेरा इस्तीफा परमानेंट कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के पास पड़ा है, जब वे चाहेंगी उपयोग करेंगी.”अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले राजस्थान में संभावित कैबिनेट फेरबदल की अटकलों के बीच राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को कहा कि उनका इस्तीफा स्थायी रूप से कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के पास है। अशोक गहलोत ने कहा, ‘मेरा इस्तीफा स्थायी रूप से सोनिया गांधी के पास है। जब कांग्रेस मुख्यमंत्री को बदलने का फैसला करेगी, तो किसी को संकेत नहीं मिलेगा। मुख्यमंत्री बदलने पर कोई विचार नहीं किया जाएगा। कांग्रेस आलाकमान निर्णय लेने के लिए स्वतंत्र है और मैं सभी से अपील करूंगा कि अफवाहों पर ध्यान न दें क्योंकि इससे शासन प्रभावित होता है।’गुरुवार को कांग्रेस नेता सचिन पायलट और पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी के बीच बैठक के बाद सीएम अशोक गहलोत के बयान ने राजस्थान कांग्रेस में नेतृत्व परिवर्तन को लेकर अटकलों को हवा दे दी है। गौरतलब है कि सचिन पायलट की पार्टी के शीर्ष अधिकारियों के साथ एक पखवाड़े में दूसरी मुलाकात थी।बैठक के बाद सचिन पायलट ने मीडिया से बात करते हुए कहा, “पार्टी को मजबूत करने की रणनीति, संगठनात्मक चुनावों पर चर्चा की और पार्टी अध्यक्ष को राजस्थान के राजनीतिक हलचल के बारे में प्रतिक्रिया भी दी।” राजस्थान पिछले 30 वर्षों से वैकल्पिक सरकारों के दौर से गुजर रहा है। हर 5 साल में एक प्रवृत्ति का पालन किया गया है जिसके कारण राज्य में भाजपा या कांग्रेस प्रशासन का गठन होता है।पीटीआई के अनुसार सचिन पायलट ने आगामी चुनावों के लिए मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार में संभावित बदलाव की ओर इशारा करते हुए कहा, “हम ठीक इसी पर चर्चा कर रहे हैं। सब कुछ शामिल है। अंतिम फैसला पार्टी अध्यक्ष करेंगे। और जो लोग जमीन पर काम कर रहे हैं, उनकी उचित प्रतिक्रिया देना हमारी जिम्मेदारी है। पार्टी अगले कुछ हफ्तों और महीनों में क्या कर सकती है।”जुलाई 2020 में वापस, सचिन पायलट ने राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उनकी सरकार के खिलाफ खुलेआम विद्रोह कर दिया था, जिससे सरकार टूटने के कगार पर आ गई थी।


Leave a Reply

Your email address will not be published.