बोर्ड परीक्षा में नोनिहालों को गर्मी से बचाने के लिए लगाई गुहार

तहलका न्यूज,बीकानेर। जिला उद्योग संघ के अध्यक्ष द्वारकाप्रसाद पचीसिया, सचिव वीरेंद्र किराडू एवं कार्यकारिणी सदस्य विजय चांडक ने वर्तमान में जारी बोर्ड परीक्षाओं के दौरान पावर कट का समय बदलने बाबत ज्ञापन सौंपा | ज्ञापन में बताया गया कि वर्तमान में गर्मियों का दौर जारी है और पूरे संभाग में बच्चों की कक्षा 5वीं व 8वीं की बोर्ड परीक्षाएं भी संचालित हो रही है | विद्युत विभाग द्वारा वर्तमान में बिजली की कमी को देखते हुए प्रात: 8 से 9 बजे तक पावर कट किया गया है जो कि कक्षा 5वीं व 8वीं कक्षा के बच्चों के परीक्षा के समय के दौरान है | पूरे संभाग में ज्यादातर ऐसी स्कूल संचालित हो रही है जिनमें पावर कट के समय बच्चों को गर्मी से बचाने का कोई साधन नहीं है | वर्तमान में बिजली की किल्लत को देखते हुए विद्युत विभाग द्वारा की जा रही कटौती आधारप्रद है लेकिन बोर्ड परीक्षा की हो रही परीक्षाओं तक इसके समय में बदलाव की काफी आवश्यकता है |

छोटे व्यापारियों के लिए भी बड़े व्यापारियों की भांति जारी हो एमनेस्टी स्कीम : एडवोकेट शर्मा
तहलका न्यूज,बीकानेर। जिला उद्योग संघ के कानूनी सलाहकार एवं बीकानेर जिला उद्योग संघ अध्यक्ष द्वारकाप्रसाद पचीसिया ने कम्पोजीशन डीलर के लिए गत वर्षों के जीएसटीआर-4 पर देय विलंब शुल्क के लिए एमनेस्टी स्कीम लाये जाने तथा वर्ष 2021-22 के लिए जीएसटीआर-4 प्रस्तुत करने की समय सीमा बढाने बाबत पत्र प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को भिजवाया | पत्र में बताया गया कि कम्पोजीशन डीलर के लिए जीएसटीआर-4 में प्रत्येक वर्ष का वार्षिक रिटर्न प्रस्तुत करने का प्रावधान है तथा देरी से प्रस्तुत करने पर प्रत्येक वर्ष के लिए रूपये 10 हजार विलंब शुल्क आरोपणीय होता है | वर्तमान में कर निर्धारण वर्ष 2019-20 व 2020-21 के जीएसटीआर-4 के वार्षिक रिटर्न पेंडिंग पड़े हैं और छोटे छोटे करदाता जो कंपोजिशन स्कीम के तहत आते हैं के विरुद्ध वार्षिक रिटर्न नहीं भरने पर अब रूपये 10 हजार की पेनल्टी लग रही है | दूसरी और बड़े करदाताओं के लिए सरकार ने लेट फीस माफ़ करने की कई योजनाएं निकाल रखी है इसी तरह नोटिफिकेशन निकालकर लेट फीस माफ़ की जाए | कंपोजिशन डीलर के अलावा अन्य डीलर के लिए सरकार द्वारा वर्ष 2017-18 से वर्ष 2021-22 तक समय समय पर ना केवल एमनेस्टी स्कीम लागू की गई बल्कि विलंब शुल्क की अधिकतम सीमा को केवल 500 रूपये तक करके राहत प्रदान की गई है सरकार को इन एमनेस्टी स्कीम में कंपोजिशन का विकल्प लेने वाले छोटे छोटे व्यापारियों को भी विलंब शुल्क पूर्णतया माफ़ किया जाना चाहिए अथवा विलंब शुल्क जो वर्तमान में 10 हजार रूपये है कम करके 500 रूपये तक किया जाना चाहिए क्योंकि कंपोजिशन डीलर बहुत छोटे व्यापारी होते हैं उनकी आर्थिक स्थिति भी ज्यादा अच्छी नहीं होती है | इन डीलर के लिए सरकार को एमनेस्टी स्कीम की घोषणा करते हुए जीएसटीआर-4 को प्रस्तुत करने की समयावधि को 30 जून 2022 तक बढा कर राहत प्रदान करनी चाहिए | साथ ही वर्तमान में जीएसटी पोर्टल पर एक नेगेटिव लेजर एवं नेगेटिव दायित्व प्रदर्शित हो रहा है जिसके कारण वर्ष 2021-22 के जीएसटीआर-4 प्रस्तुत नहीं हो रहे हैं | जिसको प्रस्तुत करने की अंतिम तिथि 30 अप्रेल 2022 है जो कि अब समाप्ति की और है | जब तक इन नेगेटिव लेजर की समस्या का समाधान नहीं हो जाता तब तक वर्ष 2021-22 के लिए जीएसटीआर-4 की अंतिम तिथि 30 अप्रेल 2022 से बढाकर 30 सितंबर 2022 की जानी चाहिए |


Leave a Reply

Your email address will not be published.