नेशनल गेम्स में गोल्ड मेडल जीतकर आई  कविता का भव्य स्वागत

 

तहलका न्यूज,बीकानेर। हाल ही में गुजरात में आयोजित नेशनल गेम्स-2022 में महिला सीनियर वर्ग की साईकलिंग रेस प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल जीतकर मंगलवार को बीकानेर लौटी कविता सियाग का रेलवे स्टेशन पर भव्य स्वागत हुआ। यहां बड़ी तादाद में शहरी सहित आसपास के गांवों के लोग भी कविता को स्वागत व बधाई देने पहुंचे। रेलवे स्टेशन से कविता को रैली के रूप में घर ले जाया गया, जहां बीच रास्ते में जगह-जगह स्वागत हुआ। इस दौरान कविता सियाग ने कहा कि वह किसान परिवार व ग्रामीण परिवेश से जुड़ी हुई है। गुजरात में आयोजित नेशनल साईकलिंग प्रतियोगिता में जाने से पहले मुझे यह उम्मीद नहीं थी कि मुझे इतनी बड़ी उपलब्धि हासिल होगी, लेकिन जैसे-जैसे गेम खेला और आगे बढ़ती गई, आखिकर गोल्ड मेडल के लिए एलाउंस तब जाकर अहसास हुआ कि हां मैंने गोल्ड मेडल जीत लिया है। उसके बाद खुशी का ठिकाना नहीं रहा। कविता ने अपने साथी खिलाडिय़ों खासकर लड़कियों को संदेश दिया कि जीवन में कभी हार नहीं माननी चाहिए, ईमानदारी के साथ मेहनत करते रहोगे तो निश्चित जीत मिलेगी। कविता ने इस उपलब्धि का श्रेय अपने कोच किशन पुरोहित, श्रवण डूडी व अपने पिता ओमप्रकाश को दिया। कविता ने कहा कि इनके बिना यह सपना शायद कभी पूरा नहीं होता।इस दौरान कविता के पिता ओमप्रकाश सियाग ने कविता के जीवन से जुड़ी एक दुर्घटना के बारे में बताते हुए कहा कि साईकलिंग रेस प्रतियोगिता के दौरान कविता साईकिल चलाते गिर गई थी। इस हादसे में कविता के दो दांत टूट गए थे। जिसके बाद होंठ की सर्जरी करवानी पड़ी और दांत लगवाने पड़े। उस के बाद कविता डर गई थी, लेकिन उन्होंने हिम्मत दी और कहा कि जीवन में ऐसे कई उतार चढाव आएंगे लेकिन हार नहीं माननी चाहिए। पिता के इस हिम्मत के बाद कविता फिर से साईकिल पर चढ़ी और जिसका नतीजा आज यह है कि गुजराज में आयोजित नेशनल प्रतियोगिता में कविता गोल्ड मेडल जीतकर आई। यह बड़ी उपलब्धि है। इस दौरान कविता के दादा रेवंतराम सियाग, दादी तथा चाचा राजेन्द्र सियाग, रामचन्द्र सियाग ने भी कविता की उपलब्धि पर खुशी जताते हुए उज्ज्वल भविष्य की कामना की।

कविता का इन्होंने किया स्वागत
नेशनल गोल्ड मेडल जीतकर बीकानेर आई कविता सियाग का डूडी पेट्रोल पम्प पर भगवाना डूडी व उनके स्टाफ ने माला पहनाकर स्वागत किया। कृष्णा विहार स्थित घर पहुंचने पर स्वागत कार्यक्रम हुआ। जिसमें सेल अधिकारी कोच किशन पुरोहित, श्रवण डूडी ने शोल ओढ़ाकर स्वागत किया। इस दौरान समाजसेवी भंवर कुकणा ने 21 हजार रुपए की राशी देकर कविता का स्वागत किया। महाराणा प्रताप अवार्ड प्राप्त रामकरण चौधरी ने 51 हजार रुपए का चैक दिया, यह राशि उनके द्वारा गोल्ड मेडल लाने के लिए पूर्व में घोषित की हुई थी। साइकलिंग के पितामह हरीराम रेलवे 11 हजार रुपए राशि देकर पुरस्कृत किया। इस स्वागत समारोह में एनएसयूआई के पूर्व अध्यक्ष सुन्दर बैरड़, छात्र अशोक बुडिय़ा, युवा जाट महासभा के अध्यक्ष रामकिशन गोदारा, राजेश गोदारा, किशन अनेजा, हेतराम बिजारणिया, जालुराम सियाग, ऊन मंडी के अध्यक्ष रामदयाल सारण, बालेश कुकणा, जिला कांग्रेस के प्रवक्ता ओमप्रकाश सैन, रामचन्द्र गेदर, रामकिसन सियाग, युवा कांग्रेस के पूर्व उपाध्यक्ष तोलाराम सियाग सहित सैकड़ों खिलाड़ी व कविता सियाग के गांव के बड़ी संख्या में लोगों ने स्वागत किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.