सरकार के मंत्री का फिर बड़बोलापन,कलक्टर से की अभद्रता

तहलका न्यूज,बीकानेर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के लिये इन दिनों उनके मंत्री जी का जंजाल बने हुए है। जिसके कारण उनकी सरकार न केवल विपक्ष के निशाने पर है,बल्कि सोशल मीडिया व मीडिया की भी सुर्खियों में है। जिसके कारण गहलोत सरकार की थूं-थूं भी हो रही है। कांग्रेस के एक ओर मंत्री की हरकत के कारण आज फिर सरकार की किरकिर हुई है। जानकारी मिली है कि रविन्द्र रंगमंच में आयोजित कार्यक्रम में सरकार के जिम्मेदार मंत्री समझे जाने वाले पंचायतराज मंत्री रमेश मीना द्वारा जिले के प्रमुख के साथ किये गये बर्ताव ने चर्चाओं का बाजार गर्म कर दिया। मंजर यह रहा कि इसके लिये उन्होंने मुख्यमंत्री के बयानों को ही आधार बनाया जिसमें सीएम द्वारा अधिकारियों द्वारा आमजन के काम नहीं किये जाने पर कार्यवाही की बात कही। और जिला कलक्टर को बाहर निकल जाने के लिये कह दिया। किन्तु बीकानेर जिला कलक्टर की सीआर को लेकर फिलहाल किसी भी स्थानीय मंत्री,नेता या अन्य पार्टियों और संगठनों की शिकायत नहीं है। मंत्री मीना के दुव्र्यवहार को लेकर विपक्षी दल के नेताओं ने राज्य सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि गहलोत-पायलट की आपसी खींचतान की खीस अब अधिकारियों पर निकाली जा रही है। पूर्व मंडल अध्यक्ष जे पी व्यास ने कहा कि मंत्री रमेश मीना का जिला कलक्टर भगवती प्रसाद कलाल के साथ किया गया व्यवहार अनुचित था। मंत्री की अशोभनीय हरकत ने राज्य कर्मियों व सरकार के बीच दूरियां बढ़ाने का काम किया है। अगर मंत्री को जिला कलक्टर कुछ कहना ही था तो वे जिला कलक्ट्रेट की मीटिंग में कह सकते थे। लेकिन सार्वजनिक रूप से इस प्रकार उनको कार्यक्रम से बाहर निकाल देना एक प्रशासनिक अधिकारी की बेईज्जती है। व्यास ने कहा ऐसा लगता है कि मंत्री सरकार की छवि को धूमिल करने का काम कर रहे है।
कलक्टे्रट कर्मचारी संघ ने भी जताई नाराजगी
उधर जिला कलक्टर कार्यालय के कर्मचारी संघ ने भी जिला कलक्टर भगवती प्रसाद कलाल के साथ रविन्द्र रंगमंच में मंत्री द्वारा किये गये दुव्र्यवहार पर नाराजगी जताते हुए संभागीय आयुक्त को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा है। कर्मचारियों का कहना है कि जिला कलक्टर ने ऐसा कोई कृत्य नहीं किया। जिसके लिये मंत्री को उनके साथ सार्वजनिक रूप से इस प्रकार का बर्ताव करना पड़े। मंत्री की इस हरकत से कार्मिकों को ठेस पहुंची है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.