स्टाफिंग पैटर्न में अधिशेष हुए शिक्षकों को काउंसलिंग की तिथियों घोषित

तहलका न्यूज,बीकानेर। प्रारंभिक शिक्षा के राप्रावि/राप्राउवि में शिक्षकों-शैक्षणिक कार्मिकों के पदों के विद्यालयवार आवंटन एवं समानीकरण के लिये प्रारंभिक शिक्षा विभाग ने तिथियां घोषित कर दी है। जिला कार्यालय द्वारा पोर्टल पर अधिशेष कार्मिकों की मैपिंग व सूचियों का प्रकाशन 19 व 20 जनवरी को करना होगा। इसी तरह अधिशेष कार्मिकों की ऑनलाइन काउसलिंग व मैपिंग 21 से 24 जनवरी तक की जा सकेगी। जिला स्थापना समिति के अनुमोदन के बाद 25 जनवरी तक शिक्षकों का पदस्थापन किया जाएगा। इस संदर्भ में निदेशक कानाराम ने आदेश जारी किये प्रारंभिक शिक्षा विभाग में तीन वर्ष बाद 28 दिसम्बर को नया स्टाफिंग पैटर्न लागू कर दिया गया था। स्टाफिंग पैटर्न में छात्र नामांकन के आधार पर स्कूलों में शिक्षकों के पदों का दुबारा निर्धारण किया गया। ये स्टाफिंग पैटर्न शिक्षा संकुल में शिक्षा मंत्री सहित अन्य अधिकारियों की मौजूदगी में लागू किया गया। स्टाफिंग पैटर्न 2021 में सरकारी स्कूलों में कक्षा एक से आठ तक बढ़े 8 लाख नामांकन के अनुसार पदों का निर्धारण किया गया। जिससे प्रारंभिक शिक्षा में 10 हजार से अधिक पद जिसमें वरिष्ठ अध्यापक के 124 व अध्यापक लेवल वन व टू के 7663 व शारीरिक शिक्षक के 2232 पद आवंटित हुए। स्टाफिंग पैटर्न में पूरे राज्य में मात्र 2400 शिक्षक अधिशेष हुए है। जिनका समायोजन काउंसलिंग के द्वारा वर्तमान स्कूल के पास वाली स्कूलों में किया जाना है। काउंसलिंग का कैलेंडर प्रारंभिक शिक्षा निदेशालय की ओर से जारी होगा उसके बार संबंधित जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय द्वारा काउंसलिंग करवाई जाएगी। लेकिन 20 दिन बाद भी कैलेंडर जारी नहीं होने से अधिशेष शिक्षक इसका इन्तजार कर रहें है। अधिशेष शिक्षकों की अतिशीघ्र काउंसलिंग प्रक्रिया शुरू करवाकर पदस्थापन करने की मांग की है जिससे कक्षा 5 व आठवीं बोर्ड के विद्यार्थियों को अध्यापन कार्य का लाभ मिल सकें।
पुराने नियम बदले नए नियम में 108 छात्रों पर मिलेगा पीटीआई
नए स्टाफिंग पैटर्न में पुराने नियमों में बदलाव किया गया है। अब आठवीं तक के स्कूलों में नामांकन 105 होने पर शारीरिक शिक्षक का पद दिया जाएगा। पूर्व में ये पद 120 से अधिक का नामांकन होने पर दिया जाता था। ऐसे में इस नियम से कई स्कूलों को फायदा होगा। उन्हें भी शारीरिक शिक्षक का पद मिल सकेगा।
10 से अधिक छात्र होने पर तृतीय भाषा का होगा अतरिक्त पदराज्य सरकार ने स्टाफिंग पैटर्न के पुराने नियमों में बदलाव करते हुए अब तृतीय भाषा पढऩे के लिए छात्र संख्या 10 होने पर स्कूल में तृतीय भाषा के शिक्षक का अतरिक्त पद दिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.