भाजपा की स्थिति बिना दूल्हे के बारात जैसी,12 दूल्हे,एक लूटरी दुल्हन!

तहलका न्यूज,बीकानेर। रालोपा के सुप्रीमो हनुमान बेनीवाल ने भाजपा व वसुन्धरा राजे पर तंज कसते हुए कहा कि आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा की स्थिति बिना दूल्हे के बारात जैसी है। जहां बारह दूल्हे और एक लूटेरी दुल्हन सीएम पद के दावेदारी जता रहे है। भाजपा वालों की बारात भी कहा जाएगी। ये भी उनको पता नहीं है। बेनीवाल ने आज सर्किट हाउस में प्रेस वार्ता के दौरान यह बात कही। बेनीवाल ने कहा कि पायलट सीएम बनना चाहते है और गहलोत उन्हें बनने नहीं देना चाहते। गहलोत-पायलट की सीएम बनने की लालसा से प्रदेश का बेड़ा गर्ग हो गया है। इन हालातों को देखते हुए रालोपा आम आवाम की आवाज बनेगी और आने वाले चुनावों में पूरी ताकत के साथ अपनी ताल ठोकेगी। नागौर सांसद ने कहा कि वे अग्निवीर योजना को वापस लेने के लिये प्रदेश भर में युवाओं की रैलियां कर रहे है। इस दौरान बेनीवाल ने दिव्या मदेरणा के बयान पर भी पलटवार करते हुए कहा कि रालोपा को किसी की जरूरत नहीं। यह बात सिद्व करने की जरूरत कहां है,उपचुनावों व पंचायत चुनावों में दिखा चुके है। उन्होंने कहा कि रालोपा ने तो भाजपा व कांग्रेस के कई नेताओं के लिये अपनी पार्टी के उम्मीदवार उनके आग्रह पर नहीं उतारे। किन्तु 2023 के चुनाव में ऐसा नहीं होगा। रालोपा पूरे 200 विधानसभा चुनाव में अपने प्रत्याशी उतारेगी।
राजे को अब याद आएं दिवंगत
उन्होंने कहा कि वसुन्धरा राजे का बीकानेर दौरा दिखावा है। उन्हें कोई बुला नहीं रहा तो शोकाकुल बैठकों के जरिये वे बीकानेर आ रही है। जबकि गमी में एक परिवार को ढाढस तीन महीने के भीतर ही बंधाना उचित रहता है। हर धर्म में एक समय तक ही गमी की बैठकें होती है या फिर शोक संवेदना परिवार को व्यक्त की जाती है। किन्तु राजे को दो से ढाई साल बाद दिवंगतों को याद करने उनके परिवारजनों के पास जा रही है। जो साफ जाहिर करता है कि पूर्व सीएम को अब कोई याद नहीं करता। वे तो चलाकर ऐसे कार्यक्रम बनाकर खुद को बुलावा रही है।
राजस्थान में जंगलराज
बेनीवाल ने कहा कि कोई बड़ा आंदोलन बीजेपी ने नहीं किया। राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी आमजनता की आवाज बनकर खड़ी हुई है,चाहे वो लोकसभा में जनता के मुद्दे उठाना हो या विधानसभा में। उन्होंने कहा,चाहे वो फ्री बिजली, किसानों के मुद्दे हों या रोजगार और बढ़ते हुए अपराध,आरएलपी ही राजस्थान को बचाने का प्रयास रही है,जवानों और किसानों को बचाने का प्रयास कर रही है। लूट,डकैती, बलात्कार की घटनाएं राजस्थान में आम हो गयी हैं, अब वहां जंगलराज है और कानून व्यवस्था वेंटिलेटर पर है।
‘वसुन्धरा-सचिन को अलग पार्टी बनाने की दी नसीहत
नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल ने तो सचिन पायलट को अलग पार्टी बनाने की भी नसीहत दे डाली। उन्होंने कहा वे अपनी अपनी पार्टियां बनाकर चुनावी समर में उतरे तब दम का पता चलेगा। कांग्रेस में एक आलाकमान नहीं है। अगले चुनाव में मुख्य मुकाबला सिर्फ भाजपा औऱ आरएलपी के बीच का ही है। इस बार कांग्रेस तीसरे नंबर पर रहेगी।
‘सत्ता में कांग्रेस फेल तो विपक्ष में भाजपा
भाजपा पर उन्होंने निशाना साधते हुए कहा है कि भाजपा राजस्थान में विपक्ष की भूमिका में है वो यह भी ठीक से नहीं निभा पाई। चार साल कांग्रेस सरकार को हो गए हैं लेकिन वो एक भी बड़ा आंदोलन नहीं कर पाई। लंपी पर कांग्रेस सरकार तो फेल हुई ही है लेकिन भाजपा भी इसके खिलाफ कोई मुद्दा नहीं पा पाई। प्रदेश में कितना कुछ चल रहा है, बेरोजगार, किसानों के लिए कोई कुछ भी नहीं कर रहा है, एक अकेला सांसद हनुमान बेनीवाल है जो इन मुद्दों को आगे लेकर चल रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.