चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग से बड़ी खबर,पढ़िए पूरी खबर

जयपुर। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग ने बड़ा फैसला लिया है। मौसमी बीमारियों को लेकर चिकित्सा विभाग अलर्ट मोड पर आ गया है। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री परसादी लाल मीणा ने जयपुर के स्वास्थ्य भवन में समीक्षा बैठक ली और इस दौरान मौसमी बीमारियों को लेकर दिशा निर्देश दिए।स्वास्थ्य विभाग की ओर से मौसमी बीमारियों की रोकथाम को लेकर स्वास्थ्य भवन में बैठक आयोजित की गई। इस बैठक की अध्यक्षता चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री परसादी लाल मीणा ने की।जिसमें उन्होंने विभाग के अधिकारियों को कहा कि मौसमी बीमारियों की रोकथाम के लिए वह अलर्ट मोड पर रहकर काम करें।वर्तमान में स्वाइन फ्लू,कोरोना,मलेरिया,डेंगू सहित कई मौसमी बीमारियों का खतरा है। ऐसे में आमजन के बचाव के लिए व्यापक स्तर पर घर घर सर्वे करवाने के निर्देश दिए। मंत्री ने कहा है कि आशा कार्यकर्ता सहित अन्य स्वास्थ्य विभाग से जुड़े फील्ड में रहने वाले कार्मिक घर घर जाकर सर्वे करें।कोरोना जांच के लिए सैंपलिंग बढ़ाने के निर्देश दिए है। खांसी, जुकाम,बुखार के जो भी केस आए उनकी कोरोना सैंपलिंग भी करवाए। वहीं जहां पॉजिटिविटी रेट ज्यादा है,उन जिलों में रोजाना 1000 सैंपलिंग करवाने के निर्देश दिए है।वहां पर बीमारियों का लक्षण दिखाई दे तो ब्लड सैंपल लेकर स्लाइड बनाए और विभाग व मरीज को सही रिपोर्ट करें। रिपोर्ट किसी से छिपाकर नहीं रखे। तुरंत मरीज को चिकित्सा सहायता उपलब्ध करवाए। क्योकि चिकित्सा विभाग के पास उपचार की सभी सेवाएं और संसाधन उपलब्ध हैं। ऐसे में जागरुकता के अभाव में या फिर अन्य कारणों से आमजन को स्वास्थ्य का लाभ लेने से वंचित नहीं रहने दें।बैठक में शासन सचिव मेडिकल एजुकेशन वैभव गालरिया, शासन सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग डॉ. पृथ्वी, एमडी आरएमएससीएल अनुपमा जोरवाल सहित आला अधिकारी मौजूद रहे। वहीं वीसी के माध्यम से जिला स्तर के अधिकारी भी बैठक में शामिल हुए। बैठक में कोरोना के बढ़ते मामलों और मंकी पॉक्स के खतरे को लेकर भी चर्चा हुई। इस दौरान चिकित्सा विभाग की प्रमुख योजनाओं, चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा, निरोगी राजस्थान के क्रियान्वयन को लेकर भी चर्चा की गई। बैठक में सभी जिलों से सीएमएचओ, मेडिकल कॉलेज से जुड़े अधिकारी और अस्पतालों के अधीक्षक भी वीसी के माध्यम से जुड़े रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.