आखिर तकनीकी विवि के विद्यार्थियों का भविष्य पर क्यों लग रहा है सवालिया निशान,पढ़े पूरी खबर

तहलका न्यूज,बीकानेर। कोरोना काल ने जहां आर्थिक रूप से हर वर्ग की कमर तोड़ी है। वहीं शिक्षा के क्षेत्र में भी बंटाधार किया है। इसको लेकर शिक्षण संस्थाएं भी सरकारी एडवाजरी की आड़ में विद्यार्थियों का शोषण करने में पीछे नहीं है। ऐसा ही बीकानेर तकनीकी विवि अपने विद्यार्थियों के साथ कर रहा है।बीकानेर तकनीकी विश्वविद्यालय के गैर जिम्मेदाराना रवैयै के कारण हजारों विद्यार्थियों का भविष्य दांव पर लगा हुआ है। इसको लेकर अध्ययनरत विद्यार्थियों ने सोशल मीडिया पर जंग छेड़ रखी है। विद्यार्थियों का आरोप है कि बीकानेर तकनीकी विश्वविद्यालय ने अन्य विवि की तर्ज पर मार्च 2021 में 1,3,5 सेमेस्टर के मैन‌ और बैक परीक्षाओ‌ं में विद्यार्थियों को 25 प्रतिशत अतिरिक्त नंबर देने के का वादा किया था। ताकि कोरोना काल के कारण पढा़ई में हुए नुकसान से विद्यार्थियों को राहत मिल सके। लेकिन पहले और तीसरे सेमेस्टर के जारी किये गये परिणामो‌ं में 25 प्रतिशत अधिक नंबर नहीं दिए गये, जिस कारण 80 प्रतिशत विद्यार्थी फेल हो गये। विद्यार्थियों में रोष है कि फाइनल ईयर के विद्यार्थियों का कैरियर हर तौर पर अंधकार के साए में नजर आता है क्योंकि कोरोना काल में पढ़ाई भी नहीं हुई और यूनिवर्सिटी अपनी जिम्मेदारी निभाने में पूर्णत: विफल रही है। क्योंकि रिजल्ट नहीं आए‌ है और परीक्षा की दूर दूर तक कोई उम्मीद नहीं है, इस समय 2,4,6,8 सेमेस्टर की कक्षाएं लगनी चाहिए थी जबकी‌ यहां तो 1,3,5,7 सेमेस्टर की परीक्षाएं भी नहीं हुई हैं। विद्यार्थियों ने जल्द से जल्द 2,4,5,6 मैन और 3,4 बैक के परीक्षा परिणाम जारी 17 जनवरी तक करने की मांग की है। अन्यथा 20 जनवरी से आन्दोलन की चेतावनी दी है।
तय समय पर जारी नहीं हो रहे परिणाम,अंकतालिका नहीं मिलने से भी नुकसान
हालात यह है कि विवि की लापरवाही के चलते विद्यार्थियों को दोहरी मार पड़ रही है। विविओर से समय पर परिणाम भी जारी नहीं किये जा रहे है और न ही अंकतालिका दी जा रही है। जानकारी मिली है कि पांचवे सेमेस्टर की परीक्षा हुए दस महीने का समय बीत जाने के बाद भी अब तक परिणाम जारी नहीं हुआ है। इतना ही नहीं 2,4,6 सेमेस्टर की परीक्षा हुए 6 महीने से अधिक हो गई। इसके परिणाम का इंतजार भी अब तक विद्यार्थी कर रहे है। जिसके कारण प्लेसमेंट हुए विद्यार्थियों को भारी नुक़सान हो रहा है। जिसकी वजह साफ है बिना अंकतालिका के बिना प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में लगे विद्यार्थी न तो फॉर्म भर सकते है और एसएसबी सेल्स के साक्षात्कार में भागीदारी नहीं निभा सकते। हालात यह है कि 3,5,7 सेमेस्टर की परीक्षा दिसंबर 2021 में हो होनी थी,वो अभी तक भी नहीं हुई और ना ही कोई दिशा निर्देश दिए गए हैं। जिससे विद्यार्थियों में असंतोष की भावना है, विश्वविद्यालय प्रशासन छात्रों से बात तक नहीं करता है और डांटकर वापस भेज देता हैं।
बैक की परीक्षाओं को लेकर भी स्थिति स्पष्ट नहीं
मंजर यह है कि विवि की ओर से अलग अलग सेमेस्टर में बैक ओन वाले विद्यार्थियों की परीक्षाएं कब होनी है। इसको लेकर भी स्पष्ट स्थिति नहीं है। जबकि राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालय, कोटा ने गत वर्ष बैक आने वाले अपने विद्यार्थियों को बिना परीक्षा लिए ही प्रमोट कर दिया था।वहीं बीकानेर तकनीकी विश्वविद्यालय फाइनल इयर वाले विद्यार्थियों के 1,2,3,4,5 सेमेस्टर के बैक की परीक्षा कब लेगा इसका कोई लेकर किसी प्रकार के दिशा निर्देश अभी तक जारी नहीं किये है। ऐसे में फाइनल ईयर की जून 2022 में 8 वें सेमेस्टर की परीक्षा लेकर फ्री भी करना है,जिसमें अभी मात्र साढ़े चार महीने बचे हैं। और अभी तो 7 वें सेमेस्टर की परीक्षाएं भी नहीं हुई है और पिछले सेमेस्टरों के परीक्षा परिणाम भी जारी नहीं किए हैं।
प्रध्यापक छोड़ रहे है कॉलेज
विद्यार्थियों पर आएं इस संकट की न तो सुनवाई हो रही है और न ही समाधान। स्थिति यह है कि बीकानेर तकनीकी विश्वविद्यालय की प्रमुख कॉलेज ईसीबी बीकानेर के17 अध्यापक कॉलेज छोड़कर जा चुके हैं अक्टुबर 2021 में ही, उनके स्थान पर अभी तक दूसरे अध्यापकों की नियुक्ति विश्वविद्यालय ने नहीं की है। जिससे 1,3,5,7 सेमेस्टर के विद्यार्थियों का भविष्य अब अंधकार में लग रहा है।
ये है मांग
उधर सोशल मीडिया के जरिये विद्यार्थी सरकार व विवि प्रशासन से जल्द से जल्द राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालय की तर्ज‌ पर‌ बैक आएं विद्यार्थियों को बिना परीक्षा लिए ऑनलाइन मीड टर्म के आधार पर पास कर जून तक डिग्री पूरी करवाने तथा सभी परिणाम समय पर जारी करने की मांग की है। साथ ही फरवरी तक1,3,5,7 सेमेस्टर की परीक्षा ऑनलाइन मोड़ में लेकर विद्यार्थियों के हितों की रक्षा के लिए जल्द से जल्द कदम उठाए ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.