आखिर शिक्षा निदेशालय में क्यों हुए गूंजे वेद मंत्र,ये है माजरा

तहलका न्यूज,बीकानेर। प्रधानाचार्य पद पर डीपीसी के संबंधित नियम संशोधन नोटिफिकेशन जारी होने के उपरांत भी वर्ष 2021-22 की डीपीसी विगत 14 माह से भी लंबित है और बिना कारण ही 14 माह बीत जाने के बाद भी नियमित डीपीसी नहीं होने के कारण प्रभावित व्याख्याता 8 जून से अनिश्चितकालीन धरने पर निदेशालय के सामने बैठे हैं। आज इन धरनार्थियों ने सरकार की सद्बुद्वि के लिये यज्ञ किया। जिसमें बड़ी संख्या में पुरूष व महिला व्याख्याताओं ने आहुति दी। धरनार्थियों ने बताया कि 650 व्याख्याता डीपीसी नहीं होने से प्रभावित हो रहे है। प्रधानाचार्य डीपीसी 2021-22 संघर्ष समिति के संयोजक लक्ष्मी कांत स्वामी ने बताया शिक्षा विभाग के नए नियमों के अनुसार डीपीसी वर्ष 2021 के रिक्त पदों के विरुद्ध 80:20 के अनुपात में होना प्रस्तावित है,इस डीपीसी हेतु पूर्व में दिसंबर 2021 में भी धरना दिया गया था, उस समय विभाग द्वारा शीघ्र डीपीसी का आश्वासन दिया गया था डीपीसी नहीं होने के कारण 25 जनवरी को निदेशालय बीकानेर धरना दिया गया था विभाग द्वारा डीपीसी जल्द ही करवाने का आश्वासन दिया गया। इस संदर्भ में निदेशक एवं शिक्षा मंत्री को ज्ञापन के माध्यम से बार-बार अवगत कराया गया किंतु अस्थाई पात्रता सूची जारी होने के छ: माह बाद पूरा सत्र बीत जाने के उपरांत भी डीपीसी नहीं होने के कारण तथा प्रतिमाह प्रत्येक व्याख्याता को लगभग 20000 वेतन का नुकसान होने के कारण व्याख्याता में भारी आक्रोश है। धरने में श्रवण ढाका, महावीर मीणा, राजेंद्र चौधरी, राजेंद्र घिटाला, संतोष यादव, सुषमा, वरुण गोयल, अनुबला, अमरिंदर बरार, बृजेश शर्मा आदि ने संबोधन दिया।
गिरफ्तारी की मांग
तहलका न्यूज,बीकानेर। अपनी मांगों को लेकर शिक्षा निदेशालय को बंद करने के दौरान हुए माहौल के विरोध में आज निदेशालय के कार्मिकों की ओर से सद्बुद्वि यज्ञ कर सरकार का ध्यान आकर्षित किया। कर्मचारी नेता सत्यनारायण व्यास ने कहा कि जिस तरह प्रदर्शनकारियों ने निदेशालय में आकर उत्पात के हालात पैदा किये है। उस घटनाक्रम से कई कर्मचारी चोटिल भी हुए है। जिसके कारण पुलिस को भी हस्तक्षेप करना पड़ा। उत्पात करने वालों की पहचान होने के बाद भी उनकी न तो गिरफ्तारी हुई है और न ही विभाग की ओर कोई कार्यवाही की गई है। जिसके विरोध स्वरूप निदेशालय कार्मिक आन्दोलन की राह पर है। व्यास ने बताया कि ऐसी हरकत करने वालों को गिरफ्तार नहीं करने तक शिक्षा निदेशालय के कर्मचारी आन्दोलन करते रहेंगे। इस दौरान अहम कामकाज प्रभावित नहीं होने देंगे। आन्दोलन कर रहे कर्मचारियों ने जमकर नारेबाजी करते हुए अभद्रता करने वालों के खिलाफ कार्यवाही की मांग की। आपको बता दे विगत दिनों राजस्थान शिक्षा सेवा परिषद् रेसा की ओर प्रदर्शन किया गया था। निदेशालय कर्मचारी इस दौरान काम कर रहे थे। इस दौरान कुछ शिक्षा अधिकारियों की नारेबाजी और बातचीत कर्मचारियों को अनुचित लगी। विरोध करने पर दोनों पक्ष आमने सामने हो गए। मामला बढ़ता देख बीछवाल पुलिस को बीच बचाव करना पड़ा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.