आखिर क्यों नाराज हुआ अल्पसंख्यक समाज,पार्षद ने भी पकड़ी हठ

तहलका न्यूज,बीकानेर। सीएम अशोक गहलोत के बीकानेर आगमन पर आज कई घटनाक्रम हुए। जहां अल्पसंख्यक समाज के नेताओं ने सीएम गहलोत के स्वागत से दूरी बनाई तो वहीं कांग्रेस की एक मनोनीत पार्षद ने सर्किट हाउस के सामने सीएम से मिलने की जिद पकड़ धरना दे दिया। ऐसे में विपक्ष को बैठे बिठाएं कांग्रेस पर निशाना साधने का एक ओर मौका मिल गया। बताया जा रहा है कि यूआईटी चैयरमेन या किसी अन्य बड़े आयोग की कमान अल्पसंख्यक समाज को देने को लेकर अड़े समाज के लोगों ने न केवल हैलीपेड पर सीएम के स्वागत से दूरी बनाई बल्कि सर्किट हाउस व रविन्द्र रंगमंच के आयोजन में भी नहीं दिखे। जिसके चलते पार्टी में इस बात को लेकर सुगबुगाहट शुरू हो गई। परिस्थितियों को भांप सीएम ने पहल करते हुए मुस्लिम समाज के मौजिज नेताओं को सर्किट हाउस में मिलने का बुलाया भेजा। जब अल्पसंख्यक समाज के नेता सीएम से मिलने पहुंचे तो यहां मौजूद अन्य समाज के लोगों ने भी सीएम से मिलने की इच्छा जाहिर की। तब सभी को सुबह मिलने के लिये न्यौता दिया गया। उधर मनोनीत पार्षद निर्मला चांवरिया भी इस बात को लेकर सर्किट हाउस के सामने हाथ में बैनर लेकर बैठ गई कि उन्हें अभी सीएम से मिलना है। प्रशासन ने खासी समझाईश की पर वह मानने को तैयार नहीं हुई। बाद में एक युवा नेता की पहल पर चांवरिया को सुबह मिलने का समय तय होने के बाद उसने धरना उठाया।इधर राजनीतिक गलियारों में अल्पसंख्यक समाज की इस रवैये की खासी चर्चा हो रही है।


Leave a Reply

Your email address will not be published.