संगठनों की बजाय अपने दम पर जीते प्रत्याशी,देखे पूरा लेखा जोखा

तहलका न्यूज,बीकानेर। शहर में तीन विश्वविद्यालयों,तीन राजकीय कॉलेजों व निजी कॉलेजों में हुए चुनावों के परिणाम घोषित हो चुके है। इनमें महाराजा गंगासिंह विश्वविद्यालय व राजकीय विधि कॉलेज में एबीवीपी का पैनल जीता है। वहीं डूंगर कॉलेज व एम एस कॉलेज में एनएसयूआई ने अपना कब्जा बरकरार रखा है। तो एनएसयूआई संभाग की सबसे बड़ी डूंगर कॉलेज व एम एस कॉलेज में अपना दबदबा कायम रखते हुए जीत दर्ज की। इन दोनों की कॉलेजों में पिछली बार भी एनएसयूआई के अध्यक्ष विजय हुए थे। उधर रामपुरिया,नेहरू शारदापीठ,जैन कन्या कॉलेज में अध्यक्ष पद पर निर्दलीय विजयी हुए है। जानकारी के अनुसार एमजीएसयू में एबीवीपी के लोकेन्द्र सिंह अध्यक्ष निर्वाचित हुए। महासचिव पद पर योगेश हर्ष ने जीत दर्ज की है। तो एम एस कॉलेज एनएसयूआई की निरमा मेघवाल विजयी घोषित हुई। जो जिले में सर्वोधिक मतों से जीती है। इसी तरह राजकीय लॉ कॉलेज में एबीवीपी का पैनल जीता है।  राजकीय विधि स्नातकोत्तर महाविद्यालय में नतीजे सामने आए है। यहां एबीवीपी ने बाजी मारी है। एबीवीपी के पैनल ने जीत दर्ज की है। मिली जानकारी के मुताबिक अध्यक्ष पद पर रेवंत सिंह राठौड़ विजयी घोषित हुए है। उपाध्यक्ष पद पर एबीवीपी के केशव आचार्य, महासचिव पद पर एबीवीपी के प्रखर मित्तल व संयुक्त सचिव पद पर एबीवीपी की रेखा सोनी को विजयी घोषित किया गया है। लम्बे अर्से बाद एबीवीपी की जीत के बाद कॉलेज में जश्न का माहौल है। छात्रों ने एक-दूसरे को गुलाल लगाई। जमकर नारेबाजी की तथा विजयी जुलूस निकाला। रामपुरिया कॉलेज में निर्दलीय संजय सिंह भाटी निर्वाचित हुए है। सभी जीते हुए पदाधिकारियों ने गुलाल उड़ाकर विजय जुलूस निकाला।
संगठन दिखे निष्क्रिय
वैसे तो छात्रों की हितों के लिये संघर्ष करने वाले संगठनों ने टिकट वितरण करने के अलावा कोई विशेष काम नहीं किया। हालात यह रहे कि जीतने वाले अधिकांश प्रत्याशी अपने दम ही चुनाव की जंग को जीते। हालात यह है कि अधिकांश महाविद्यालयों और विवि में छात्र संगठनों की इकाई तक नहीं है। जिसके कारण सक्रिय सदस्यों की कोई संख्या नहीं थी। कहने को एबीवीपी ने कई कॉलेजों पर कब्जे जरूर किये है। परन्तु उनके पदाधिकारी टिकट बांटने तक ही सीमित रहे। चुनाव प्रचार में कार्यालयों के शुभारंभ के बाद कही नजर नहीं आएं। वहीं एनएसयूआई के जिलाध्यक्ष तो स्वयं टिकट वितरण से नाराज होकर विद्रोही हो गये थे। जिसके कारण वे महज डूंगर कॉलेज के एनएसयूआई के प्रत्याशी को वोट दिलाने की बजाय उन्हें हराने में लग गये। उधर एसएफआई ने भी महज औपचारिकता निभाते हुए अपनी इज्ज्त जरूर बचाई।
सर्वोधिक मतों से जीती निरमा
जो जानकारी मिली है उसमें सामने आया है कि एम एस कॉलेज की अध्यक्ष पद पर विजयी निरमा जिले में सर्वोधिक मतों से जीतने वाली है। जिन्होंने 730 मतों से एबीवीपी के उम्मीदवार को हराया।
कॉलेज में भी चला नोटा
आम तौर पर लोकसभा,विधानसभा,पार्षद,पंचायतों के चुनावों में नोटा के प्रयोग देखने को मिलते है। वहीं छात्र संघ चुनावों में भी नोटा का प्रयोग किया गया। महाराजा गंगासिंह विवि में सर्वोधिक मतदाताओं ने नोटा का प्रयोग किया। यहां अध्यक्ष में पांच,उपाध्यक्ष में 11,महासचिव में 22 व संयुक्त सचिव में 19 जनों ने किसी भी प्रत्याशी को पसंद नहीं किया। तो जैन पीजी कॉलेज में चार जनों ने नोटा का प्रयोग किया।

जयंत बिश्नोई बने अध्यक्षः 
वेटरनरी विश्वविद्यालय छात्र संघ चुनाव 2022 की शनिवार को मतगणना के पश्चात् केन्द्रीय छात्र संघ अध्यक्ष पद पर जयंत बिश्नोई (प्राप्त मत 889) निर्वाचित घोषित किये गए। उन्होंने जीत राम कारीवाल (प्राप्त मत 574) को परास्त किया। महासचिव पद पर विजय शंकर (प्राप्त मत 727) ने भावना नारनोलिया (प्राप्त मत 726) को हरा कर विजयी हुए। उपाध्यक्ष पद पर चेतन राम चौहान एवं संयुक्त सचिव पद पर आरिफ उस्मानी निर्विरोध निर्वाचित हुए। गौरतलब है कि विश्वविद्यालय छात्र संघ चुनाव वेटरनरी महाविद्यालय, बीकानेर, नवानियां, जयपुर, डेयरी विज्ञान एवं खाद्य तकनीकी महाविद्यालय (बस्सी) एवं डेयरी विज्ञान एवं तकनीकी महाविद्यालय (बीकानेर), डिप्लोमा संस्थान नोहर (हनुमानगढ़), चांदन (जैसलमेर), बोजून्दा (चित्तौड़गढ़) और डग (झालावाड़) संस्थानों में कुल 18 मतदान केन्द्रों पर 1815 मतदाता छात्र-छात्राएं अपने मताधिकार का किया। वेटरनरी विश्वविद्यालय छात्र संघ के नवनिर्वाचित पदाधिकारियों को कुलपति प्रो. सतीश के. गर्ग ने शपथ दिलवायी। कुलपति सचिवालय में आयोजित समारोह में कुलपति प्रो. गर्ग ने सभी नवनिर्वाचित छात्र संघ पदाधिकारियों और राजुवास के अधिकारियों को सौहार्दपूर्ण वातावरण में शांतिपूर्वक निर्वाचन के लिए बधाई देते आशा जताई की छात्र प्रतिनिधि छात्र कल्याण और तर्कसंगत तरीके से अपने कार्यों को अंजाम देकर अपने अच्छे कार्यों की छाप छोडेंगे तथा विश्वविद्यालय के शैक्षणिक विकास एवं शोध तथा प्रतिष्ठा के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाकर अपना पूर्ण सहयोग करेंगे। वेटरनरी कॉलेज के अधिष्ठाता प्रो. आर.के. सिंह, और मुख्य निर्वाचन अधिकारी प्रो. सुभाष गोस्वामी ने भी पदाधिकारियों को माला पहनाई एवं बधाई दी। समारोह में निदेशक अनुसंधान प्रो. हेमन्त दाधीच, निदेशक प्रसार शिक्षा प्रो. आर.के. धूड़िया एवं अधिष्ठाता स्नातकोत्तर अध्ययन प्रो. ए.पी. सिंह एवं अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।
वेटरनरी कॉलेज बीकानेर पशुचिकित्सा छात्र संगठन निर्वाचित
वेटरनरी कॉलेज, बीकानेर के पशुचिकित्सा संगठन चुनाव की मतगणना के पश्चात् अध्यक्ष पद पर विरेन्द्र सिंह को (प्राप्त मत 240) विजयी घोषित किया गया। उन्होंने कन्हैया लाल (प्राप्त मत 214) को हराया। उपाध्यक्ष पद पर अभिषेक मीणा (प्राप्त मत 261) ने राकेश कुमार बालदवाल (प्राप्त मत 187) को परास्त कर विजयी रहे। महासचिव पद पर तरूण पारीक (प्राप्त मत 253) एवं संयुक्त सचिव सह कोषाध्यक्ष पद पर निहाल सिंह गुर्जर (प्राप्त मत 242) विजयी हुए। वेटरनरी कॉलेज के अधिष्ठाता प्रो. आर.के. सिंह, प्रो. उर्मिला पानू एवं अन्य अधिकारियों ने महाविद्यालय के नव निर्वाचित पदाधिकारियों को बधाई दी।

इन कॉलेजों से ये बने पदाधिकारी
महाराजा गंगासिंह विवि
अध्यक्ष
लोकेन्द्र सिंह (275) भवानी सिंह (259) 16 – नोटा पांच
उपाध्यक्ष
दिपिका शर्मा (332) भरत गौड़ (243) 69 – नोटा 11
महासचिव
योगेश हर्ष (339) विजयपाल चौधरी (216) 121 – नोटा 22
संयुक्त सचिव
वर्षा सैन (352) कुलदीप सोनी (201) 151 – नोटा 19

नेहरूशारदा पीठ पराजित अंतर निरस्त
अध्यक्ष
कर्तिका पारीक (36) यश देराश्री (26) 10 2
उपाध्यक्ष
जयकिशन जोशी (33) मोती भादाणी (59) 07 5
जैन पी जी कॉलेज
अध्यक्ष
बिजेश विश्नोई (124) यश देराश्री (61) 63 2
उपाध्यक्ष
दीपक आचार्य (138) मोती भादाणी (46) 92 2 नोटा एक
महासचिव
हिमांशु अग्रवाल (133) दिक्षित बोथरा(50) 83 2 नोटा दो
संयुक्त सचिव
आनंद मारू (127) गौरव यादव (54) 73 5 नोटा एक

Leave a Reply

Your email address will not be published.